Search Bar

आयुर्वेदिक चूर्ण दशांगलेप के फायदे

आयुर्वेदिक चूर्ण दशांगलेप के फायदे| Dashang Lape Benefits

आयुर्वेदिक चूर्ण दशांगलेप के फायदे : दशांगलेप चूर्ण एक आयुर्वेदिक औषधि है जो कि सूजन, त्वचा रोग,घाव आदि रोगों के बाहय प्रयोग में काम आता है।

इसका प्रयोग ज्वर, शिरहशूल , व्रण,शरीर में चकत्ते आदि के उपचार में इसे नारियल तेल या सरसों के तेल में पेस्ट बनाकर बाहयरूप से स्थानिक प्रयोग किया जाता है।

वैसे दशांगलेप मुख्य रूप से शोथ व दर्द हरण करने में अत्यंत प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है जो किसी भी दर्द हो इसके बाहय प्रयोग से दर्द ठीक हो जाता है।
आयुर्वेदिक चूर्ण दशांगलेप के फायदे
आयुर्वेदिक चूर्ण दशांगलेप के फायदे

दशांगलेप के घटक द्रव

  1. सिरस छाल
  2. मुलेठी
  3. तगर
  4. लाल चंदन
  5. बड़ी इलायची
  6. जटामांसी
  7. हल्दी
  8. दारुहल्दी
  9. कूठ
  10. नेत्र बला
  11. घी
आदि घटक द्रव से मिलकर दशांगलेप बनता है।

दशांगलेप बनाने की विधि

उक्त 11 आयुर्वेदिक दवाओं को अच्छी तरह समान मात्रा में लेकर कूट पीसकर एकदम बारीक चूर्ण बना लें ततपश्चात उसे अच्छे से छान लें और जो टुकड़े बचेंगे उन्हें छोड़ दें और छानने के बाद जो चूर्ण निकला है उसे किसी कांच की बर्तन पर सुरक्षित रख दें यानी आपका दशांगलेप बनकर तैयार हो चुका है।

दशांगलेप को लेप करने की विधि

सबसे पहले तो आप आवश्यकता के अनुसार किसी बर्तन पर  दशांगलेप लेना है जैसे 1 या 2 चम्मच ,अब आपको आधी चम्मच उसमें हल्दी पाउडर और 1 या 1/2 चम्मच सरसों का तेल हल्का गुनगुना करने के बाद मिला देना और उसे अच्छे से मिक्स कर लें जो पेस्ट तैयार हो जाता है। अब उस पेस्ट को जहाँ पर दर्द हो रहा है वहां पर लगा लें आपको निश्चित तौर पर आराम मिलेगा।

दशांगलेप के फायदे और नुकसान

  • शरीर के किसी भी हिस्से में शोथ या सूजन हो वहां पर लगाने से आराम मिलता है।
  • घाव या व्रण व छोटे छोटे चकत्ते को ठीक करने में दशांगलेप लाभकारी होता है।
  • ज्वर के साथ साथ शिरहशूल या सिर का दर्द हो तब आप दशांगलेप को माथे पर कपड़े के सहायता से लेप कर सकते निश्चित ही लाभ मिलता है।
नुकसान-
  1. इसे अधिक समय तक शरीर मे लेप करके न रखें अन्यथा उस स्थान पर जलन हो सकता है।
  2. दशांगलेप को धूप वाले स्थान पर न रखें बल्कि इसे ठंडे स्थान और शांत जगह पर रखें।
  3. बच्चों से दूर रखे।
नोट :- यह आयुर्वेदिक दवा सिर्फ और सिर्फ बाहरी प्रयोग के लिये ही है।इसे आप डॉक्टर की देखरेख में ही प्रयोग करें।

यह आयुर्वेदिक दवा दशांगलेप किसी भी आयुर्वेदिक मेडिकल स्टोर में बहुत आसानी से उपलब्ध है।अगर आप इसे किसी कारण से  बना नहीं पा रहे हैं तो आप खरीद सकते हैं।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां