बच्चे के लिए सामान्य हीमोग्लोबिन

बच्चे के लिए सामान्य हीमोग्लोबिन

बच्चे के लिए सामान्य हीमोग्लोबिन: शरीर में आयरन की कमी होना और अधिक होना दोनों रूपों में शरीर के लिए हानिकारक होता है। 
मतलब लौह तत्व शरीर के लिए आवश्यक तो है लेकिन संतुलित मात्रा में, स्वस्थ शरीर में आयरन की मात्रा 20 gm से ज्यादा नहीं होना और यदि 20gm से अधिक हो जाता है तब हिमोक्रोमेटिक रोग के लक्षण दिखाई देने लगते हैं ।
आयरन का सबसे महत्वपूर्ण कार्य  लाल रक्त कणिकाओं का निर्माण करना है,बल्कि हीमोग्लोबिन निर्माण का काम भी आयरन करता है। जो शरीर के अंगों को सुद्रण व मजबूत बनाने के साथ ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

हीमोग्लोबिन क्या है

हीमोग्लोबिन क्या है: हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में प्रोटीन अणु है जो फेफड़ों से ऑक्सीजन को शरीर के ऊतकों तक ले जाता है और ऊतकों से कार्बन डाइऑक्साइड को वापस फेफड़ों तक पहुंचाता है।
हीमोग्लोबिन चार प्रोटीन अणुओं से बना होता है जो एक साथ जुड़े होते हैं । सामान्य व्यस्क हीमोग्लोबिन विषाणु में दो अल्फा ग्लोब्युलिन अणु और दो बीटा ग्लोब्युलिन अणु होते हैं।
बच्चे के लिए सामान्य हीमोग्लोबिन
बच्चे के लिए सामान्य हीमोग्लोबिन


बच्चे के लिए सामान्य हीमोग्लोबिन

हीमोग्लोबिन से शरीर में खून कितनी मात्रा में है यह हीमोग्लोबिन परीक्षण से पता चलता है,अगर बच्चों में हीमोग्लोबिन की मात्रा कम है तो उन्हें  डॉक्टर या किसी वैद्य की सहायता से आयरन व प्रोटीन बढ़ाने वाले दवा देने चाहिए और साथ ही पालक, सेब, अनार देना चाहिए जिनमें नेचुरल आयरन होता है और भरपूर मात्रा में होता है।साथ दूध, पनीर, व दाल खिलाना चाहिए जो कि बच्चे में प्रोटीन की मात्रा को कंप्लीट करेगा।

हीमोग्लोबिन स्तर फिजिसियन के अनुसार

  • पांच वर्ष तक- 10.9 से 15.0 hg 
  • पांच बर्ष से गयारह वर्ष तक - 11.9 से 15.0 hg
  • ग्यारह वर्ष से अठारह वर्ष तक - 11.9 से 15.0 hg

0 Comments:

Please do not enter any spam link in the comment box