Gall Bladder Stone कैसे बनती है

Bladder Stone कैसे बनती है


Gall Bladder Stone कैसे बनती है - Gall Bladder या "पित्ताशय" यह नाशपाती फल के जैसा दिखने वाला थैलीनुमा अंग होती है जो कि ठीक लीवर के नीचे स्थित रहता है।

पित्त एक पाचक रस है जो कि लिवर द्वारा बनाया जाता है जिससे वसायुक्त खाद्य पदार्थों को पचाने में मदद करता है, जहां से यह छोटी आंत में जाकर पाचन क्रिया में सहायता करता है।

Goll Bladder में ही पित्त पथरी का निर्माण करने वाले चर्बी का संचय होता है यह चर्बी पित्ताशय में जमा पित्त में घुलनशील होता है लेकिन कई बार स्थाई कब्ज,एसिडिटी,अनियमित असंतुलित और जल्दी न पचने वाले भोजन, शराब पीने, नशा करने, मांसाहारी, मोटापे, डायबिटीज अनुवांशिक तथा रक्त संबंधी बीमारियां आदि के परिणाम स्वरूप पाचन क्रिया कमजोर हो जाने के कारण gall bladder में चर्बी नहीं घुल पाता और इकट्ठा होकर दूषित द्रव्यों के  मिल जाने से पथरी का रूप धारण कर लेता है,जिसे Gall bladder stone कहते हैं।
प्रारंभिक चरण में पथरी का आकार छोटा यानि रेत या बालू के समान होता है और उसमें दूषित द्रव्यों के मिलने से पथरी का आकार धीरे धीरे बढ़ने लगता है।
Gall Bladder Stone कैसे बनती है
Gall Bladder Stone कैसे बनती है

छोटे आकार की पथरी पित्त नली के रास्ते निकलकर आंतों में प्रवेश कर जाते हैं और मूत्र के साथ बाहर निकल जाती है और मरीज को पथरी होने का पता भी नहीं चलता है लेकिन बड़े आकार की पथरी जब पित्त नली के अंदर प्रवेश करती हैं तो अत्यंत कष्ट या पीड़ा होती है।

पथरी होने पर क्या खाना चाहिए

पथरी होने पर
  • छिलके वाली मूंग की दाल

  • चावल

  • परवल

  • लौकी

  • करेला

  • अनार

  • मौसम्मी

  • आंवला

  • ग्वारपाठा

  • बिना तले हुए भोजन तथा

  • आसानी से पचने वाला भोजन

पथरी होने पर क्या नहीं खाना चाहिए

  • मांस का सेवन

  • शराब

  • नशीली पदार्थ

  • उड़द

  • पनीर

  • दूध से बनी हुई मिठाई या अन्य कोई खाद्य पदार्थ

  • नमकीन

  • तीखी मसाले

  • और तले हुए भोजन तथा

  • बिना भूख के भोजन न करें।

0 Comments:

Please do not enter any spam link in the comment box