Important Jankari

संजीवनी बूटी से कम नहीं है हल्दी ,जान लीजिए अदभुत फायदे

संजीवनी बूटी से कम नहीं है हल्दी ,जान लीजिए अदभुत फायदे


संजीवनी बूटी से कम नहीं है हल्दी ,जान लीजिए अदभुत फायदे- हल्दी हमारे किचिन में एक मसाला ही नहीं है, बल्कि यह हमारे लिए एक संजीवनी का काम करता है इसलिए इसका दूसरा नाम संजीवनी बूटी है।
संजीवनी बूटी से कम नहीं है हल्दी ,जान लीजिए अदभुत फायदे
संजीवनी बूटी से कम नहीं है हल्दी ,जान लीजिए अदभुत फायदे


हल्दी हमारे शरीर में दोनों रूप में बहुत ही उपयोगी होता है यानी कि हमारे बॉडी के अंदर और बॉडी के बाहर सूजन व संक्रमण को दूर करने में सहायक होता है। हल्दी को पवित्र माना जाता है जो कि कई तरह के पूजन विधि में उपयोग किया जाता है।

तो चलिए अब जान लेते हैं हल्दी के कुछ अदभुत फायदे-


कैंसर को रोकने में सहायक- अधिकतर डॉक्टरों ने शोध कर पाया है कि हल्दी में करक्यूमिन घटक होता है  जो कि एंजाइम को रोकने में समर्थ होता है जो सिर और गर्दन पर कैंसर को पैदा करता है।

हल्दी एक पॉवरफुल एंटीऑक्सीडेंट है- हां हल्दी एक पॉवरफुल एंटीऑक्सीडेंट का काम करता है जिससे शरीर का इम्युनिटी मजबूत होती है और कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी के इलाज में अपना योगदान देती है।

हल्दी पुराने से पुराने दर्द के लिए रामबाण औषधि है- हल्दी के सेवन से आप पुराने दर्द को भी ठीक कर सकते हैं जैसे - वातरोग, गठिया रोग, पक्षाघात या लकवा आदि के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकता है।

मधुमेह रोगियों में हल्दी का असर- मधुमेह यानी डायबिटीज के रोगियों में हल्दी अत्यधिक प्रभाशाली है इसके सेवन करने से कुछ ही दिनों में  मधुमेह रोगी को अदभुत लाभ होता है।

रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये हल्दी- हल्दी हमारे शरीर को रोगों से लड़ने की ताकत प्रदान करता है और शरीर को बाहरी व अंदरि दोनों तरह के संक्रमण व चोटों से बचाता है।

त्वचा के लिए हल्दी कितने फयदेमंद है- अगर आपके तव्चा में मुहांसे हैं या आंखों के नीचे झुर्रियां हों तो आप हल्दी का लेप बनाकर लगाएं कुछ दिनों में मुहांसे व झुर्रियां ठीक हो जाएंगे।और यदि

तव्चा किसी कारण से जल गया या कट गया है तो वहां पर भी हल्दी पाउडर को गुलाब जल में मिला कर लगा सकते हैं और अपने घाव को जल्दी से ठीक कर सकते हैं।

हल्दी का सेवन करने की विधि


हल्दी का सेवन करने का सबसे सही समय है रात। यानि कि रात में भोजन करने के ठीक एक घंटे बाद हल्का कुनकुने एक गिलास दूध में डालकर पीना चाहिए फिर देखिए हल्दी का कमाल। हल्दी बाजार में सहज ही मिल जाता है लेकिन जो हल्दी आप इस्तेमाल करने वाले हैं वह ताजा हल्दी की गांठ को पीसकर पाउडर बना लेना चाहिए ताकि वह अधिक फायदेमंद हो।

कच्चा हल्दी खाने के फायदे


कच्चा हल्दी नार्मल हल्दी की अपेक्षा अधिक फायदेमंद होता है क्योंकि कच्चे हल्दी में किसी भी तरह का मिलावट नहीं होता है एकदम शुद्ध होता है अतः गांठ वाली बाजार से लेकर पीसकर चूर्ण बना लें फिर हल्दी को इस्तेमाल करें।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ